Home / हमारी बात / आखिर सिकन्दरपुर क्षेत्र की उपेक्षा क्यों?

आखिर सिकन्दरपुर क्षेत्र की उपेक्षा क्यों?

सिकंदरपुर क्षेत्र वासियों को बहुत आशा था कि उनके क्षेत्र को एक मंत्री मिलने जा रहा है, लेकिन कैबिनेट के विस्तार होने पर क्षेत्र से क्षेत्रीय विधायक संजय यादव का नाम मंत्री पद के लिए नहीं आने पर क्षेत्र के लोगों में मायूसी व्याप्त है। जहां पिछले दिनों तक लोगों के बीच जोर-शोर से चर्चा था कि संजय यादव योगी मंत्रिमंडल में निश्चित रूप से शामिल होंगे जिससे क्षेत्र के लोगों में खुशी व्याप्त था। लोग बुधवार का प्रतीक्षा कर रहे थे, तथा लोगों की प्रबल इच्छा थी कि उनके क्षेत्र का विधायक मंत्रिमंडल में शामिल हो, लेकिन जैसे ही योगी मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ, मंत्रियों के नाम सामने आए, क्षेत्रीय लोगों में निराशा व्याप्त हो गई। लोगों का यह मानना है कि फूलों की नगरी की उपेक्षा कर लोगों की भावनाओं को आहत किया जा रहा है। कारण कि पूर्व से ही भारतीय जनता पार्टी की सरकार से लोगों को बहुत बड़ी-बड़ी आशाएं थीं। चुकि क्षेत्र के लोगों में अटल विश्वास था कि इस बार उनके क्षेत्र को एक मंत्री मिलेगा तथा क्षेत्र का विकास निरंतर गति प्राप्त करेगा, लेकिन जैसे ही योगी मंत्रिमंडल की घोषणा हुई लोगों के सामने सभी मंत्रियों के नाम आए चाहे वह कैबिनेट मंत्री हो, चाहे स्वतंत्र प्रभार हो चाहे राज्य मंत्री हो लोगों की आशाएं धूमिल होने लगी। वहीं कुछ लोगों ने यह माना है कि यह फूलों की नगरी शुरू से ही लोगों के बीच आस्था का केंद्र रहा है। पूर्व में यहां आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जीने कई आधारशिला भी रखा। उसी समय से लोगों के मन में एक विश्वास घर गया था कि इस बार निश्चित ही उनके क्षेत्र को मंत्री मिलेगा। कारण जो भी हो लोगों को आज भी विश्वास नहीं हो रहा है कि उनके क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के विधायक संजय यादव को मंत्रिमंडल में नहीं शामिल किया गया है। लोगों ने आशा ही नहीं बल्कि विश्वास व्यक्त किया है कि जल्दी ही उनके क्षेत्र को भी एक मंत्री मिले।

Share with :
Sikanderpur Live Welcomes You.....

About सिकन्दरपुर LIVE

Check Also

बचपन में हमने भी बाबूजी के कई जूते खाए हैं

भारतखंडे आर्यावर्ते जूता पुराणे प्रथमो अध्याय। मित्रों! आजकल जूता यानी पादुका संस्कृति हमारे संस्कार में …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.