[pj-news-ticker scroll_speed="0.15"]
Breaking News
Home / जिला-जवार / पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में जिम्मेदारी

पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में जिम्मेदारी

बलिया। प्रजनन स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए पुरुषों की सहभागिता अत्यंत महत्वपूर्ण है। स्वास्थ्य विभाग ने गत वर्षो की भांति इस वर्ष भी 21 नवंबर से 04 दिसंबर तक ‘पुरुष नसबंदी पखवाड़ा’ मनाए जाने का निर्णय लिया है जिसमें पुरुषों की भागीदारी सुनिश्चित की जा सके। कार्यवाहक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ के डी प्रसाद ने बताया – समाज में एक बहुत बड़ा मिथक है कि ज्यादातर पुरुष यौन क्षमता प्रभावित होने के डर से पुरुष नसबंदी नहीं करवाते हैं जबकि यह सिर्फ एक भ्रांति है। पुरुष नसबंदी करने की प्रक्रिया बहुत ही सुरक्षित और बहुत ही आसान है और सरकार इसके लिए इच्छुक लाभार्थी को प्रतिपूर्ति राशि भी देती है। उन्होंने बताया – नसबंदी की प्रक्रिया पूरी होने में केवल 10 से 15 मिनट का समय लगता है और इसमें लाभार्थी को दो से तीन दिन आराम की जरूरत होती है। उन्होंने कहा – परिवार नियोजन के साधन को अपनाने की पहल पुरुषों द्वारा की जानी चाहिए क्योंकि पुरुषों की शारीरिक संरचना महिलाओं की अपेक्षा अधिक सरल होती है। पुरुष नसबंदी के बाद भी 90 दिनों तक कंडोम या अन्य गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करना चाहिए। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी/ नोडल अधिकारी डॉ वीरेंद्र कुमार ने बताया कि इस वर्ष पुरुष नसबंदी पखवाड़ा मनाए जाने के लिए भारत सरकार ने “पुरुषों की अब है बारी, परिवार नियोजन में जिम्मेदारी” थीम निर्धारित की है। इसका मुख्य उद्देश्य जनसाधारण को सीमित परिवार के बारे में जागरूक करना तथा परिवार कल्याण कार्यक्रम में पुरुषों की भागीदारी को बढ़ाते हुए कार्यक्रम को गति प्रदान करना है।

 

Share with :
Sikanderpur Live Welcomes You.....

About सिकन्दरपुर LIVE

Check Also

बलिया के वरिष्ठ पत्रकार जमाल आलम के पिता के आकस्मिक निधन से शोक की लहर

बलिया। शहर के विशुनीपुर निवासी पत्रकार जमाल आलम के पिता हाजी हादी आलम का आज …