Home / साहित्य संगम / न चिठ्ठी न संदेश, न जाने कौन सा देश जहां तुम चले गए…

न चिठ्ठी न संदेश, न जाने कौन सा देश जहां तुम चले गए…

@ इमरान खान

सिकन्दरपुर,9 मार्च। नहीं रहे मशहूर शायर व रिटायर्ड अध्यापक रहबर सिकन्दरपुरी आज उनकी नमाज़े जनाज़ा 2 बजे दिन में अदा होगी। नगर के मोहल्ला डोमनपुरा निवासी रिटायर्ड अध्यापक व मशहूर शायर रहबर सिकन्दरपुरी का लम्बी बीमारी के बाद 70 वर्ष के उम्र में उनका देहांत शुक्रवार की देर रात उनकी पैतृक आवास पर हो गया। इनकी जनाजे की नमाज बाद नमाज़ जोहर 2 बजे दिन में दारुलउलूम सरकारे आसी के सहन में पढ़ाई जाएगी। तथा मिट्टी लटहा पर दी जाएगी। शायर रहबर सिकंदर पुरी ने अपने जीवन काल में बहुत सारे कलाम लिखे तथा सिकंदरपुर की धरती पर अनेकों बार मुशायरे का प्रोग्राम भी करा चुके है। इनके दो पुत्र और दो पुत्रियां है जिनकी शादी उन्होंने अपने जीवन काल में ही करा दी थी। शायर रहबर सिकन्दरपुरी लगभग एक महीने से गले के केंसर से पीड़ित थे। जिसका ईलाज भी चल रहा था। शुक्रवार को रात 10 बजें उन्हों ने आखरी सांस ली तथा हमेशा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह दिया।

Share with :
Sikanderpur Live Welcomes You.....

About सिकन्दरपुर LIVE

Check Also

“मानवता” पर भोला सिंह की शानदार कविता

मानवता के लिए मरें, तो ही मनुष्य कहलाऐंगे। सबके सुख-दुख बाट सके, तो ही मनुष्य …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.