[pj-news-ticker scroll_speed="0.15"]
Breaking News
Home / जिला-जवार / शिद्दत से याद किए गए पूर्व प्रधानमंत्री

शिद्दत से याद किए गए पूर्व प्रधानमंत्री

सिकंदरपुर। स्वर्गीय चंद्रशेखर जी पूर्व प्रधानमंत्री भारत सरकार के जन्मदिन पर सिकंदरपुर में आयोजित विचार गोष्ठी को संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री राजधारी ने बताया कि वाणी की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता ही लोकतंत्र की बुनियाद है। चंद्रशेखर जी ने जीवन पर्यंत देश की हर ज्वलंत समस्याओं पर अपनी बेबाक बात को निर्भीकता से रखने का कार्य किया। उन्होंने राष्ट्रीय मुद्दों पर देश हित में जो भी महसूस किया उससे बिना फायदा नुकसान का विचार किए व्यक्त करने का कार्य किया। जेपी आंदोलन के समय कांग्रेस की शीर्ष राजनीति में रहते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी को सुझाव दिए थे कि जयप्रकाश नारायण का आंदोलन वर्तमान व्यवस्था की बुराइयों के विरुद्ध है। इसलिए उनसे वार्ता कर समाधान की पहल देश हित में होगा। इतिहास का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा था कि जब जब सत्ता संतो से टकराई है सत्ता को मात खानी पड़ी है। जयप्रकाश नारायण और उनका आंदोलन देश और समाज हित में है जिसके परिणाम स्वरूप चंद्रशेखर जी ने आपातकाल में जेल जाना स्वीकार किया लेकिन सत्ता में रहकर सत्ता की मनमानी नहीं किया। अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में सेना के प्रवेश का जहां स्वागत हो रहा था अकेले चंद्रशेखर द्वारा स्वर्ण मंदिर में सेना के प्रवेश का सिखों की भावना का अपमान बताकर लोगों का कोपभाजन बनना पड़ा। आज की राजनीति में चाटुकारिता एवं अवसरवादी सोच ने अपनी जड़े जमा लिया है। कार्यर्ताओं के विचारों की अनदेखी कर नेतृत्व मनमानी करता रहा है। हर दल में आंतरिक लोकतंत्र कमजोर पड़ता जा रहा है। राजधारी ने कहा कि परिवादी जातिवादी एवं संप्रदायवादी सोच ने वाणी की अभिव्यक्ति को कुंठित कर दिया है। नेतागण स्थानीय सामूहिक नेतृत्व को कमजोर कर चापलूसों एवं निजी रिस्ते के स्वजातीय नेतृत्व को संरक्षण दे रहे हैं जो लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत नहीं है। राजधारी ने युवाओं से चंद्रशेखर के विचारों एवं व्यक्तित्व से प्रेरणा लेकर लोकतंत्र एवं देश की आजादी को मजबूत करने की अपील की। डा. विद्या सागर उपाध्याय, सुरेश सिंह, सुदामा राय, राकेश गुप्ता, शंकर भारती, बृजेश मिश्रा, अरविंद राय, मुन्ना राय, भोपाल सिंह, रामायण दुबे, संजय सिंह, योगेंद्र यादव, राजनाथ चौहान, विनय राय, एकरामुल हक, दिनेश सिंह, देवेंद्र सिंह आदि ने संबोधित किया। अध्यक्षता शमशाद अहमद व संचालन भोला सिंह ने किया।

Share with :
Sikanderpur Live Welcomes You.....

About

Check Also

प्रवक्ता संस्कृत के पद पर चयनित होकर डॉ. दिव्या राय ने अपने क्षेत्र सहित पूरे जनपद का बढ़ाया सम्मान

बलिया। उत्तर प्रदेश विशेष अधीनस्थ शिक्षा सेवा (महिला संवर्ग) के अंतर्गत राजकीय इंटर कॉलेज में …