Home / हमारी बात / वतन लौटने के साथ ही अभिनंदन के शौर्य की कहानी भारतीय सेना के इतिहास में अमर हो गई

वतन लौटने के साथ ही अभिनंदन के शौर्य की कहानी भारतीय सेना के इतिहास में अमर हो गई

डेस्क। आखिरकार पाकिस्तान को भारत के वीर सपूत विंग कमांडर अभिनंदन को 59 घंटे बाद भारत को सौंपना ही पड़ा। रात 9.21 बजे वतन लौटने के साथ ही अभिनंदन के शौर्य की कहानी भारतीय सेना के इतिहास में अमर हो गई। अभिनंदन जब लौटे तो उनके चेहरे और हावभाव को देखकर साफ दिख रहा था कि उन्होंने पाकिस्तान को भारत के साहस का परिचय बखूबी करा दिया है। वह नीला कोट, ग्रे पैंट और सफेद शर्ट पहने हुए थे। वतन की धरती पर कदम रखते हुए उनका शेर सा तना सीना था और आंखों में चमक थी। वह कुछ देर तक जीरो लाइन पर खड़े रहे। उन्हें सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के अधिकारियों ने रिसीव किया। उन्होंने कहा कि अपने देश आकर अच्छा लग रहा है। इस दौरान भारत जिंदाबाद की गूंज सुनाई पड़ रही थी।

Share with :
Sikanderpur Live Welcomes You.....

About siteadmin

Check Also

लोकसभा क्षेत्र सलेमपुर से कौन होगा अगला सांसद

2019 के लोकसभा चुनावों की घोषणा हो चुकी है। सभी दल अपने आप को मजबूत …

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.